रविवार, 14 अक्तूबर 2012

स्वप्नो का क्षरण


स्वप्नो का क्षरण .(चर्चा के लिये )

आज जिसे मध्य प्रदेश कहते हैं ,पहले यह क्षेत्र मध्य- भारत कहलाता था .धरती की अंतराग्नि की फूत्कार से रचित रमणीय पठारी भूमि ! मालवा का क्षेत्र उसी का एक भाग है - भारत का हृदय स्थल ,सपनों के समान ही ऊबड़-खाबड़,जिसे सींचते रहे जीवनदायी पयस्विनियों के सरस प्रवाह !.उर्वर काली माटी , मां का  काजल-पुँछा स्नेहांचल हो जैसे . लोगों में प्रकृति के  प्रति विशेष लगाव यहाँ की विशेषता है .
प्रायः ही वन-भोजन के लिये वनों में पहुँच जाना ,वहीं का  ईंधन बटोर ,दालबाटी (चूरमा भी) बनाना और चारों ओर के सघन ढाक-वनों से प्राप्त पर्णों के दोने-पत्तल बना कर जीमना . पानी की कोई कमी नहीं . आये दिन कोई आयोजन .कभी मंगलनाथ की यात्रा ,कभी शरद्-पूर्णिमा का मेला कभी घट्या की जातरा .वनों में सीताफल (शरीफ़ा) और घुँघचियों के ढेर .- बड़े होने तक यहीं रही-बढ़ी. शिक्षा-दीक्षा भी संदीपनि गुरु के आश्रम वाले उज्जैन नगर में .
अपने दायित्व पूरे होने तक फिर-फिर इस रमणीयता का आनन्द लूँ ,कुछ समय यहां  निवास कर नई ऊर्जा सँजो लूँ ,यही चाहा था.कोई बड़ी कामना नहीं ! जीवन के उत्तर काल में ऐसे ही स्वच्छ-स्वस्थ जल-वायु वाले प्राकृतिक परिवेश में बहुत सीधा-सरल जीवन हो. पर समय के प्रवाह में परिवर्तन की गति बहुत तेज़ हो गई.जैसे सब-कुछ भागा जा रहा हो. आँखों के सपने भी कहाँ टिके पाते  !
अब कुछ भी वैसा नहीं .जिन जंगलों में टेसू के फूल  डाल-डाल अंगार दहकाते थे ,काट डाले गये. नदियों की निर्मल जल-रागिनी ,भीषण प्रदूषण की भेंट चढ़ गई.अमरकंटक की वह दिव्य छटा श्री-हीन हो चुकी है .
वही हाल  उत्तरी  भारत का - सरिताओं के प्रवाह बाधित ,दूषित. श्रीनगर की डल झील दुर्गंध और कीचड़ से भरी ,नैनी झील पॉलिथीन के थैलों  से पटी ,सब कुछ सूखता जा रहा ..पर्वतों की रानी मसूरी पर हरियाली के वस्त्र नाम-मात्र को रह गये .हिमगिरि के शृंखलाबद्ध रूप से किरीट  सजे शीर्ष  के  ,गंगा-यमुना-सिंधु से युक्त  संपूर्ण उत्तरी भूमि के बहुत गुण-गान पुरातन काल से कानों में गूँजते  रहे  .पर आज देकती हूँ उन सब पर दूषण की घनी छायायें घिरी  है . कभी सोचा नहीं था जीवन-पद्धति इतनी बदल जायेगी .
गंगा-यमुना को नभ-पथ का  दिव्य जल-प्रदान करती  हिमानियाँ लगातार सिमट रही हैं, धरती पर आते ही उन्हें बाँधने का ,अवशोषित करने का ,क्रम शुरू हो जाता है. महाभारत काल की अनीतियाँ सह न पा सरस्वती विलुप्त हुईं  ,आज मानव नाम-धारियों की दुर्दान्त तृष्णा सभी सरिताओं में विष घोल रही है .
 बिना गंगा-यमुना के (सरस्वती तो
ओझल हैं ही ),शिप्रा -नर्मदा ,गोदावरी कावेरी के ,भारत ,भारत रह पायेगा क्या?वनों-पर्वतों का उजड़ता वैभव आगे जीवन पर क्या प्रभाव डालेगा,सोचना भी मुश्किल लगता है .
जो सपना बीस बरस  लगातार देखती रही थी ,इधऱ पाँच दशाब्दियों से निरंतर उसका क्षरण देख रही हूँ , वह सब काल की रेत में मृगतृष्णा बन कर रह जायेगा क्या ?
*


*
(परिचर्चा के लिए)
"अरेंज्ड मैरिज और लव मैरिज "  क्या सही है !
मानव-स्वभाव इतना भिन्नतापूर्ण है और जीवन इतनी कंप्लेक्स चीज़ है कि किसी  सही-ग़लत का निर्णय हर परिस्थिति, में हर व्यक्ति  पर नहीं थोपा जा सकता .एक जगह  जो कुछ ठीक लगता है दूसरी परिस्थिति में वह गलत सिद्ध हो सकता है . 
विवाह एक  सामाजिक संस्था है  जोमानव वृत्तियों के तोषीकरण ,नियमन एवं ऊर्ध्वीकरण के साथ, सृष्टि का क्रम चलाने और उसे व्यवस्थित रखने के लिये बनाई गई है .विवाह स्त्री-पुरुष का एक जोड़ा संयोजित करता है-  परिवार  रचने के लिये  जिसमें  आजीवन दायित्व निभाने की सहमति, पारिवारिक जीवन के साथ सामाजिक मर्यादाओं की रक्षा ,परंपराओं की स्वीकृति और सामाजिक संबंधों के निर्वहन की अपेक्षा की जाती है.(प्रेम-विवाह में इस सब बातों में  ढील पड़ जाती है ).समाज के बीच परिवार  में जन्म ले कर हमने जो सुरक्षा और सुविधाएँ  पाई उनका ऋण चुकाना प्रत्येक व्यक्ति का दायित्व बनता है .जिससे निरंतरता बनी रहे .इसी की पूर्ति के लिये गृहस्थ जीवन की कल्पना की गई  .विवाह उसी गृहस्थ-जीवन का प्रारंभ है .
पूर्वकाल में हमारे यहाँ विवाहों की कई कोटियाँ थीं ,पर अब सामान्यतः दो प्रकार के देखे जाते हैं. 
1.परिवारों द्वारा  निश्चित किया गया .
2. प्रेम से प्रेरित हो कर किया गया .
  पहले प्रकार मैं परिवारिक संस्कारों की अनुरूपता के आधार पर पहले विवाह होता है फिर उसके बाद पति-पत्नी में ताल-मेल बैठने का क्रम शुरू होता है. परस्पर सहानुभूति ,विश्वास और प्रेम का विकास क्रमशः होता है 
 प्रेम-विवाह में ताल-मेल (कितना है वही दोनों जाने ) पहले बैठ जाता है - दुनियादारी से निरपेक्ष आपस की समझ एक दूसरे को अनुभव कर बनती है विवाह का संस्कार का नंबर बाद में आता है .
सामान्यतया  जो देखने में आता है -  प्रेम-विवाह में पारिवारिकता और सामाजिकता के स्थान पर वैयक्तिकता हावी रहती है, ,वह अपनेी दुनिया में ही  रहना चाहता और सामाजिक मर्यादाओं को महत्व नहीं देना चाहता. प्रारंभ के आवेग में सब सुन्दर ,मोहक लगता है  लेकिन जब सम पर आकर  जीवन सहज गति से चलने लगता है ,आगे के (पारिवारिक तथा अन्य)दायित्वों के  निर्वहन में कोई बाधा पड़ने पर  या परस्पर किसी गलतफ़हमी अथवा अन्य कारण से गतिरोध की स्थिति उत्पन्न होने पर मुश्किल हो जाती है .
जब कि सामान्य विवाह में कोई गतिरोध आने पर दोनों के परिवार सहारा देते हैं .उसे दूर करने में सक्रिय भूमिका निभाते हैं. इस आधार और सहयोग से विषम परिस्थितियाँ भी सँभल जाती हैं .
विवाह कैसा भी हो  दोनो ओर के परिवारजनों की स्वीकृति और सहयोग बना रहे तो सोने में सुहागा !
 यहाँ अमेरिका में तो सभी प्रेम-विवाह करते हैं .तलाक भी धड़ल्ले से होते हैं.इन स्थितियों में बचपन कितना अरक्षित अनुभव करता है, आघात झेलता है ,कैसा कुंठित हो जाता है मैंने देखा है.किशोरों में कैसी-कैसी ,गलत आदतें विकसित होने लगती हैं जो व्यक्तगत जीवन और समाज के लिये घातक होती हैं.परिवार का स्नेहमय संरक्षण और संस्कार मिलते रहने पर इस प्रकार की विकृतियाँ  नहीं आती.
 विवाह के लिये जिस प्रतिबद्धता की आवश्यकता है ,उसमें खरा उतरना सबसे पहली बात है .परिवार ,समाज का दबाव भी कारगर होता है 'छूट पाते ही मानव-मन अपने को नियंत्रित कर ले यह हमेशा संभव नहीं होता ,थोड़ा दबाव चाहिये ही ,अपने से बड़ों का ,जिन पर विश्वास हो .एक सहारा हमेशा के लिये बना रहे तो बहुत अच्छा है.
पारस्परिक विश्वास और सौमनस्य पूर्वक कर्तव्यों को निभाने में ही गृहस्थ-जीवन की सफलता और चारुता निहित है . चाहे प्रेम-विवाह हो या तय किया गया इसी में उसकी गरिमा है.
- प्रतिभा सक्सेना...

4 टिप्‍पणियां:

  1. मुख्य बात व्यक्तिगत नैतिकता की ही आती है।कुछ स्वप्न ऐसे होते हैं जिनके पूरा होने की शर्त उन्हें देखने वाली आँखों की संख्या होती है।अफ़सोस कि जीवन शैली ऐसी बदली है कि वो सब कुछ- जिससे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रकृति का संतुलन बना रह सकता है - 'डाउन मार्केट' हो गए हैं।घर बड़े से और बड़े अधिक विशाल हो रहे हैं..हृदय संकुचित होता जा रहा है।जिसके मन में अपनी जननी-जनक के लिए कोई स्थान न बचे..वो भला प्रकृति के लिए क्या सोच सकेगा?जीवन के मूल्य गिर रहे हैं..प्रकृति से जुड़ाव कम हो रहा है।वैभव और विलास के फेर में हर आदमी अन्धानुकरण की पट्टी आँखों पर बाँधे अपनी धुरी पर घूमे जा रहा है।चकरा कर जब गिरेगा तो पाँवों के तले शायद ही ज़मीन का टुकड़ा बचे!!सृष्टि तो अत्यधिक व्यवस्थित रूप से ही स्थापित है।अपने थोड़े आराम के लिए हमने ही प्राकृतिक संसाधनों का मूर्खतापूर्ण दोहन कर खुद ही अपने भविष्य पर प्रश्नचिन्ह खड़ा कर लिया है।प्रकृति का असंतुलन तो हम सब पर ही भारी पड़ने वाला है आने वाले समय में।
    एक आलेख पढ़ा था..जिसमे हर निर्जीव सजीव के लिए कृतज्ञता का भाव प्रकट करने की बात थी जिससे आचरण सकारात्मक और मन अधिक संवेदनशील होता है।कभी कभी इसी संवेदना की अधिकता के वशीभूत हो सोचती हूँ कि मन की अनुकूल भावनाओं को और हाथों के कृतज्ञ किन्तु विवश स्पर्श को अनुभव कर ये पेड़-पौधे,धरती माँ, पशु-पक्षी इससे अधिक और क्या कहना चाहते होंगे कि -

    ''क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
    क्या करूँ?
    मैं दुखी जब-जब हुआ
    संवेदना तुमने दिखाई,
    मैं कृतज्ञ हुआ हमेशा,
    रीति दोनो ने निभाई,
    किन्तु इस आभार का अब
    हो उठा है बोझ भारी;
    क्या करूँ संवेदना लेकर तुम्हारी?
    क्या करूँ?''

    हमें तो केवल सहेज के रखना था हर धरोहर को..किन्तु कितने असफल साबित हो रहे हैं।विवेक बुद्धि के साथ भी हम कितने निर्मम हैं!बहुत बड़े अपराधी हैं..पर्यावरण के..मूक पशु-पक्षियों के..इतिहास के..और खुद के ज़मीर के भी..!!
    उम्मीद है हम समझेंगे ..जानेंगे..हिम्मत जुटाएँगे और स्वयं को बदल कर समय रहते ये अव्यवस्था भी बदल देंगे।शुरुआत अकेले और खुद से ही करनी होगी।
    बहुत ही अहम विषय उठाया प्रतिभा जी ! आभार इस विचारोत्तेजक आलेख के लिए !!
    @अनामिका दी!! कंक्रीट का जंगल तो इसलिए फल फूल रहा है कि हम खुद कंक्रीट में ही रहना चाहते हैं. एक कन्फेशन करना चाहूँगी.कि मैं भी कंक्रीट के घर में ही बैठी हुई हूँ.इस घर को बनाने के लिए (१५ साल पहले) जो सैंकड़ों पेड़ काटे गए उन पर कबूतरों का बसेरा था..वो घर में न आ सकें तो जाली लगा दी गयी.इंसान ने मासूम पंछी को विस्थापित कर दिया।
    है न विडंबना !! कि हम जो करते हैं वो नहीं करना चाहिए परन्तु जो कहते हैं वो कम ही करते हैं.इतना लिखा मैंने उसका सार तब ही निकलेगा न दी जब मैं शीघ्र अतिशीघ्र ये घर छोड़ के ऐसी जगह जाऊं जहाँ रहने से मुझे कितनी भी हानि हो परन्तु और किसी को कोई भी हानि न हो! यदि ये स्वप्न ज़रूरी हैं हमारे लिए/हमारे अपनों के लिए तो स्वप्नों के क्षरण को रोकने के लिए कुछ न कुछ त्याग तो सभी को करना ही पड़ेगा...है न दी!!!!!!! :(

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह पोस्ट आज के (०८ अगस्त, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - श्री भीष्म साहनी से चलो मिल जाएँ पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. umda lekhan......
    विवाह में एक ही व्यक्ति के साथ बार बार प्रेम में पड़ जाना होता हैं ,
    ............................................
    उत्तम पोषण कैसे दे? ब्रेन कों !पढ़िए नया लेख-
    “Mind की पावर Boost करने के लिए Diet "

    उत्तर देंहटाएं